खरबूजे की खेती

 

खरबूजे की खेती कैसे करें 

  खेती प्रायः उच्च तापमान युक्त शुष्क जलवायु में बेहतर होती है|इसके लिए कम आपेक्षिक आद्रता (Relative Humidity) की जलवायु सबसे उत्तम होती है | विष मुक्त कृषि के  व्यावहारिक प्रयोगों से यह पाया गया कि फल पकने के समय यदि जमीन में अधिक नमी रहती है तो फलों की मिठास कम हो जाती है|

भूमि का चयन कैसे करें 

खरबूजे की खेती के लिए कचनार वाली जमीन सबसे उत्तम होती है लेकिन मैदानी क्षेत्रों में खरबूजे की खेती के लिए जल निकास वाली रेतीली दोमट जनवर भी उपयुक्त है घूमने उनके साथ पीएस 8 से ज्यादा नहीं होना चाहिए

खरबूजे की किस्मे Read : खरबूजे की खेती about खरबूजे की खेती

तरबूज की खेती

You are here

Home » लाभकारी है तरबूज की खेती

लाभकारी है तरबूज की खेती

 तरबूज की खेती शुरू करने के लिए यह सही समय है। किसान तरावट देने वाले तरबूज की खेती से अच्छी कमाई कर सकते हैं। गर्मियों में इसकी मांग भी ज्य़ादा रहती है जिससे किसान बढिय़ा मुनाफा कमा सकता है।

भूमि एवं जलवायु Read : तरबूज की खेती about तरबूज की खेती

अंगूर की खेती

 प्रस्तावना

हमारे देश में व्यावसायिक रूप से अंगूर की खेती पिछले लगभग छः दशकों से की जा रही है और अब आर्थिक दृष्टि से सर्वाधिक महत्वपूर्ण बागवानी उद्यम के रूप से अंगूर की खेती काफी उन्नति पर है। आज महाराष्ट्र में सबसे अधिक क्षेत्र में अंगूर की खेती की जाती है तथा उत्पादन की दृष्टि से यह देश में अग्रणी है। भारत में अंगूर की उत्पादकता पूरे विश्व में सर्वोच्च है। उचित कटाई-छंटाई की तकनीक का उपयोग करते हुए मूलवृंतों के उपयोग से भारत के विभिन्‍न क्षेत्रों में अंगूर की खेती की व्‍यापक संभावनाएं उजागर हुई हैं। Read : अंगूर की खेती about अंगूर की खेती

अनार की खेती

अनार की खेती

खेतीभारत में अनार की खेती मुखय रूप से महाराष्ट्र में की जाती है। राजस्थान, उत्तरप्रदेश, आंध्रप्रदेश, हरियाणा, पंजाब, कर्नाटक, गुजरात में छोटे स्तर में इसके बगीचे देखे जा सकते हैं। इसका रस स्वादिष्ट तथा औषधीय गुणों से भरपूर होता है। भारत में अनार का क्षेत्रफल 113.2 हजार हेक्टेयर, उत्पादन 745 हजार मैट्रिक टन एवं उत्पादकता 6.60 मैट्रिक टन प्रति हेक्टेयर है। (2012-13)

जलवायु Read : अनार की खेती about अनार की खेती

Pages

Subscribe to VillageDevelopment RSS