सर्पगंधा की खेती के लिये आवश्यक बातें

villagedevelopment's picture
सर्पगंधा की खेती के लिये आवश्यक बातें

सर्पगंधा को विभिन्न प्रकार की मिट्टियों में उगाया जा सकता है परंतु जैविक तत्व युक्त दोमट मिट्टी जिसमें पानी का निकास अच्छा हो उपयुक्त रहती है। मिट्टी का पी.एच. मान 4.6 से 6.2 के मध्य हो तो अच्छा है। पी.एच.मान 8.0 से अधिक न हो।
– आप सर्पगंधा-1 जाति लगा सकते हैं जो 18 महिने में प्राप्त हो जाती है और इसकी उपज लगभग 25 क्विंटल प्रति हेक्टर है।
– इसे बीज, जड़, तना, कटिंग द्वारा उगाया जा सकता है।
– बीजों से नर्सरी मई के मध्य में लगा लें बीजों को 6-7 से.मी. दूरी पर 1-2 से.मी. गहराई में बोयें। बोने के पूर्व बीजों को रात भर पानी में भिगा लें।
– इस फसल को 20 किलो नत्रजन, 30 किलो फास्फोरस तथा 30 किलो पोटाश प्रति हेक्टर आधार खाद के रूप में लगती है। खड़ी फसल में 20-20 किलो नत्रजन प्रति हेक्टर दो बार खड़ी फसल में दें। पौध संरक्षण करते रहे। उपज के रूप में जड़ों का उपयोग होता है। जहां रोपाई के लगभग 3 वर्ष बाद निकालें। जहां तक संभव हो जड़ों की खुदाई दिसम्बर में करें। इससे अधिक एल्कोसाइड प्राप्त होते हैं।
 

Category: