लीची की उन्नत तकनीक खेती

Neetu's picture

लीची एक तकनीक है जिसे वैज्ञानिक नाम से बुलाते हैं, जीनस लीची का एकमात्र सदस्य है। इसका परिवार है सोपबैरी। यह ऊष्णकटिबन्धीय फ़ल है, जिसका मूल निवास चीन है। यह सामान्यतः मैडागास्कर, भारत, बांग्लादेश, पाकिस्तान, दक्षिण ताइवान, उत्तरी वियतनाम, इंडोनेशिया, थाईलैंड, फिलीपींस और दक्षिण अफ्रीका में पायी जाती है।
मध्यम ऊंचाई का सदाबहार पेड़ होता है, जो कि 15-20 मीटर तक होता है, ऑल्टर्नेट पाइनेट पत्तियां, लगभग 15-25 सें.मी. लम्बी होती हैं। नव पल्लव उजले ताम्रवर्णी होते हैं और पूरे आकार तक आते हुए हरे होते जाते हैं। पुष्प छोटे हरित-श्वेत या पीत-श्वेत वर्ण के होते हैं, जो कि 30 सें.मी. लम्बी पैनिकल पर लगते हैं। इसका फल ड्रूप प्रकार का होता है, 3-4 से.मी. और 3 से.मी व्यास का। इसका छिलका गुलाबी-लाल से मैरून तक दाने दार होता है, जो कि अखाद्य और सरलता से हट जाता है। इसके अंदर एक मीठे, दूधिया श्वेत गूदे वाली, विटामिन- सी बहुल, कुछ-कुछ छिले अंगूर सी, मोटी पर्त इसके एकल, भूरे, चिकने मेवा जैसे बीज को ढंके होती है

भूमि इस प्रकार की हो 
उसर भूमि छोड़कर सभी प्रकार कि भूमियों में जिसमे जीवाश्म पदार्थ अच्छी मात्रा में हो और जल निकास अच्छा हो लीची कि खेती सफलतापूर्वक कि जा सकती है . चिकनी दोमट मिटटी जिसमे जीवाश्म पदार्थ अच्छा हो और पानी न ठहरता हो लीची के लिए सर्वोत्तम है . हल्की अम्लीय भूमि में पेड़ों कि बृद्धि अच्छी होती है . ऐसी भूमि में लीची कि जड़ो के ऊपर कुछ गांठे पाई जाती है . जिनमे माइकोराइजा नामक कवक पाई जाती है . जिस कारण वृक्षों कि वृद्धी अच्छी होती है .
प्रजातियाँ अनेक प्रकार की है 
भारत में अभी तक लीची कि सिमित जातियां ही उपलब्ध है , जिसका मुख्य कारण इसका भारत में देर से प्रवेश है यहाँ पर व्यापारिक स्तर कि कुछ प्रमुख प्रजातियाँ दी जा रही है जो निम्न प्रकार है . : -
अर्ली सीडलेस अर्ली बेदाना

इसके फल जून के दुसरे सप्ताह में पकते है . फुल हृदयाकार से अंडाकार शक्ल के होते है . प्रति फल औसत भार 21.67 ग्राम होता है . छिलका पतले गहरे लाल रंग का होता है . प्रतिफल गुदे का भार लगभग 18 ग्राम , गुदा मुलायम रंग सफ़ेद क्रीमी तथा 13.64 प्रतिशत व अम्ल 0 शर्करा . 436 % होता है . फल खाने में स्वादिष्ट एवं सुगन्धित होता है बिज बहुत छोटा और फलत बहुत अच्छी होती है .
रोज सेंटेड
इसके फल भी जून के दुसरे सप्ताह में पकते है फल पके हृदयाकार 3.12 लगभग से.मी. लम्बे 3.05 ओर से.मी. चौड़े होते हैएक फल का औसत भार 17.45 ग्राम होता है छिलका पतला व बैगनी रंग का मिश्रित होता है गुदा मुलायम रंग में भूरा सफ़ेद तथा प्रति फल औसत भार 13.29 ग्राम होता है गुदे में शर्करा कि मात्रा लगभग 12.79 % अम्ल कि मात्रा 0.33 % होती है फल खाने से मीठा और गुलाब कि तरह खुशबू युक्त होता है बिज आकार में बड़ा होता है फल उत्पादन उपज सामान्य होता है .
अर्ली लार्ज रेड
फल जून के तीसरे सप्ताह में पकता है फल तिरक्षा हृदयाकार लगभग 3.53 सेमि . लम्बे 3.03 से.मी. चौड़े होते है तथा फल का औसत भार 20.45 ग्राम होता है छिलका पतला , गहरे लाल रंग का गुदा कड़ा भूरा सफ़ेद शर्करा 10 0.88 % 0.41 % अम्लता खुशबू अच्छी और स्वाद मीठा होता है बिज आकार में बड़ा और फलत मध्यम होता है .
मुजफ्फर पुर
इसको लेट लार्ज रेड भी कहते है इसके फल जून के चौथे सप्ताह में पकते है फल आयता कार नुकीले होते है फल कि लम्बाई लगभग 3.75 से.मी. व चौड़ाई लगभग 3.17 मी से .. . और फल का औसत भार 22 0.51 ग्राम होता है गुदे कि औसत मात्रा 16.76 ग्राम प्रति फल गुदे में शर्करा 10.17 % एवं अम्लता 0.54% होती है गुदा मुलायम , सुगंधित एवं मीठा होता है उपज प्रचुर मात्रा में होती है .
कलकतिया
यह देर से पकने वाली किस्म है इसके फल जुलाई के प्रथम सप्ताह में पकते है फल आयता कार होते है फल कि लम्बाई और चौड़ाई लगभग 3.86 से.मी. व 3.40 और फल का औसत भार से.मी. 23.85 ग्रम होता है छिलका मध्यम मोती का तथा टायरियन रोज के रंग का होता है फल में औसत गुदे कि 16.32 ग्राम व गुदे में शर्करा 10.99 % और अम्ल कि मात्रा 0.443 % होती है इसका स्वाद मीठा व बिज आकार में बड़ा होता मात्रा है फटने कि समस्या नाम मात्र कि पाई जाती है .
लेट सीडलेस
इस किस्म को लेट बेदाना के नाम से भी जाना जाता है इसके फलो के पकने का समय जून का अंत या जुलाई का प्रथम सप्ताह है फल लम्बाई में 3.70 से.मी. और चौड़ाई में 3.55 से.मी. होते है लगभग प्रति फल औसत भार 25.4 ग्राम होता है छिलका पतला तथा सिकुड़ा होता है गुदा मुलायम रसीला तथा क्रीमी रंग का होता है गुदे में शर्करा लगभग 13.86 % 0.34 % और अम्लता पाई जाती है फल खाने में सुगन्धित और मीठा होता लगभग है परन्तु बिज के पास कुछ कड़वाहट लिए हुए होता है उपज अच्छी होती है .
शाही 
यह जाती भी मुजफ्फर पुर कि भांति आकर्षक अच्छे फलोत्पादक वाली है और बिहार में ब्यावासयिक स्तर पर सफलता पूर्वक उगाई जा रही है इसका फल भी जून में अंतिम सप्ताह में पकता है फल मीठा बिज मध्यम होता है .
राम नगर,गोला
यह कलकतिया जाती का म्युटेंट है इसके फल जून के अंतिम सप्ताह में पकते है यह हर प्रकार से कलकतिया जाती से उच्च श्रेणी कि है तराई क्षेत्रो में काफी प्रचलित है फलोत्पादन अच्छा है .
पौधरोपण 
पौध लगाने का उत्तम समय जून और जुलाई का महिना है . पौधे से पौधे और लाइन से लाइन कि दूरी भूमि कि उपजाऊ शक्ति के अनुसार 10 से 12 मीटर रखनी चाहिए . मई से जून के प्रथम सप्ताह तक 10 से 12 मीटर कि दूरी पर एक मीटर व्यास और एक मीटर गहराई के गड्ढ़े खोदकर 8 से 15 दिनों तक खुले रहने चाहिए . तत्पश्चात मिटटी व अच्छी सड़ी हुई गोबर कि खाद - बराबर बराबर मात्रा में लेकर कम से 2 ग्राम आर्गेनिक खाद मिश्रण डालकर गड्ढ़े कि मिटटी बैठकर ठोस हो जाये और उसमे पुन किलो : मिटटी व खाद का मिश्रण डालकर भर दिया जाये कम . दोवारा भरने के बाद भी सिंचाई आवश्यक है . ताकि गड्ढ़े कि मिटटी बैठकर ठोस हो जाये तत्पश्चात जुलाई में पौधा का रोपण किया जा सकता है . यदि खेत कि मिटटी चिकनी हो तो खेत कि मिटटी खाद व बालू रेत बराबर - बराबर मात्रा में मिला देना चाहिए 

जलवायु का उपयोग 
जाड़े के दिनों में अधिक पाला तथा गर्मी के दिनों में गर्म हवाओ से लू को लीची से हानी होती है . पाले से नई और - कभी कभी पुरानी पत्तियां तथा टहनियां मर जाती है . फलों के पकने के समय लू चलने से इसके फलों में फटन आ जाती है . जिससे फल ख़राब होकर गिरने लगते है . अगेती किस्मों में फल सूर्य कि कड़ी धुप से झुलस जाते है . और फट भी जाते है . जिसे सनस्काल्ड कहते है . यह हानी उस समय अधिक होती है . जब तापक्रम 38 डि 0 से 0 से अधिक हो जाता है और हवा में आद्रता 60 प्रतिशत से कम हो जाती है . इसलिए उन क्षेत्रों में जहाँ का 38 डि 0 से 0 से अधिक हो जाये और आद्रता तापक्रम 60 प्रतिशत से कम हो जाये , लीची कि खेती सफलतापूर्वक करना संभव नहीं है . 38 डि 0 से 0 से कम तापक्रम और 150 सेमी 0 वर्षा वाले क्षेत्र जहाँ आद्रता 60 प्रतिशत से ऊपर हो , लीची कि खेती के लिए उत्तम है .

सावधानियाँ इस प्रकार 

1. पौधों के थालों में नमी बनी रहनी चाहिए वर्षा न होने कि स्थिति में नए पौधों के थाले सूखने नहीं चाहिए . दुसरे अधिक वर्षा कि स्थिति में थालो में पानी रुकना नहीं चाहिए .

2. सर्दियों में पाले से बचाना आवश्यक है जिसके लिए 10 के अंतर पर सिंचाई करते रहना चाहिए दिन प्रति .गर्मियों में लू से बचाने के लिए प्रति सप्ताह सिंचाई करते रहना चाहिए .

प्रारंभिक 3. अवस्था में में पौधों को पाले और लू से बचने के लिए पौधों को पूर्व कि ओर से खुला छोड़कर शेष तीनो दिशाओं में पुवाल , गन्ने कि पत्तियों और बॉस कि खप्पचियों अथवा अरहर आदि कि डंडियों कि मदद से ढ़क देना चाहिए

4. सूर्य कि तेज धुप से बचाने के लिए तनों को चुने के गाढ़े घोल से पोत देना चाहिए .

5. उत्तर - पश्चिम व दक्क्षिण दिशा में जमौआ या शीशम आदि का सघन वृक्ष रोपण वायु अवरोधक के रूप में किया जाना चाहिए .

6. फलत वाले पेड़ों में सर्दियों में 15 दिन के अंतर पर और गर्मियों में फल बनने के पश्चात् लगातार आद्रता बनाये रखने के लिए जल्दी जल्दी सिंचाई करते रहना चाहिए इस समय पानी कि कमी नहीं होना चाहिए . अन्यथा झड़ने और फटने का डर रहता है .
जैविक खाद

अच्छी सड़ी हुयी गोबर कि खाद पहले साल 10 किलो ग्राम दुसरे साल 20 किलो ग्राम तीसरे साल 30 किलो ग्राम 4 थे साल 40 किलो ग्राम पांचवे साल या उससे ज्यादा उम्र के पौधे को प्रति साल किलो ग्राम प्रति पौधा देते है प्रत्येक तरह का खाद देने के बाद पानी देना आवश्यक है .
 से भरपूर फुल भी आएगा और भरपूर फसल या फल सेहत मंद स्वादिष्ट तैयार होगा .
सिंचाई इस प्रकार करें
जलवायु और मिटटी कि किस्म के अनुसार लीची के बाग़ कि सिंचाई कि जाना चाहिए बलुई मिटटी में जल्दी - जल्दी और चिकनी मिटटी में कुछ देर से सिंचाई कि आवश्यकता होती है . इसी प्रकार नम जलवायु में कम और खुश्क जलवायु में अधिक अर्थात - बार बार सिंचाई कि आवश्यकता होती है . उत्तर भारत में वर्षा के बाद सर्दियों में पाले से बचाने के लिए उस समय सिंचाई अवश्य कर देनी चाहिए जब पाला पड़ने का भय हो . साधारण अवस्था में जाड़े में दो सिंचाई पर्याप्त है . फ़रवरी से जून तक 15 दिन के अंतर पर सिंचाई करना आवश्यक है . फलों के पकने के समय भी लगातार आद्रता बनाये रखने के लिए - बार बार सिंचाई कि आवश्यकता पड़ती है . छोटे पौधों को गर्मियों में हर सप्ताह तथा जाड़े में हर 15 दिन बाद सींचना आवश्यक है

नीम का काढ़ा 
24 नीम का पत्ती ताजा हरा तोड़कर कुचल कर पीसकर किलो 5 लीटर पानी में पकाए जब पानी 20 0-25 लीटर रह जाय उतार कर ठंडा कर 500 ग्राम प्रति पम्प पानी में मिलाकर किसी भी तरह के रोग व किट पतंगों के प्रकोप होने पर पौधे या फसल पर छिड़काव करे .
गौमूत्र 
देसी गाय का 10 लीटर गौ मूत्र लेकर कांच के बर्तन या पारदर्शी प्लास्टीक के बर्तन या जार में लेकर 10 -15 दिन धुप में रखकरआधा लीटर प्रति पम्प लेकर पानी में मिलाकर रोग ग्रस्त किट ग्रस्त पौधों या फसलो पर छिड़काव करे .
तुड़ाई ऐसे करो 
किस्म के अनुसार लीची के फल पकने के समय गुलाबी , पिला पीलापन लिए हुए हरे हो जाते है तथा उनके छिलके पर उपस्थित ग्रंथिया चपटी हो जाती है लीची के फलो को टहनी में गुच्छो सहित तोड़ना चाहिए इसमें गुच्छो को रखने और ले जाने में आसानी होती है इससे फल अच्छे और ठीक अवस्था में होते है फलो के गुच्छे टोकरियों में पत्तियां बिछा कर उन पर रखी जाती है और इस प्रकार बेचने हेतु बाजार ले जाते है फलो को यदि दूर के बाजारों में भेजना हो तो फलो को भूरा रंग आने पर ही तोड़ लेना चाहिए तथा लकड़ी कि पतियों में पैक कर बाजार भेज देना चाहिए फल तोड़ने के 24 घंटे बाद रंग बदलने लगते है तथा 3-4 दिनों बाद कत्थई रंग के हो जाते है .
उपज के प्रकार 
गुटी द्वारा तैयार पौधे 5 6 वर्षो बाद फलाना प्रारंभ कर देते है लीची में फुल मार्च महीने में आते है तथा फल मई के अंतिम सप्ताह से जुलाई के प्रथम या द्वितीय सप्ताह तक पकते है लीची का पेड़ लगभग 20 वर्ष में पूर्ण बिकसित हो जाता है - और पूर्ण बिकसित पेड़ से लगभग से 3 कुंतल फल प्राप्त हो जाते है .
भण्डारण
लीची के फलो को डंठल तोड़कर भली भंति साफ कर ले पोलीथिन कि छिद्र युक्त थैलियों में बंद 40 से 43 डिग्री से करके ग्रे .. तापक्रम तक 90 आद्रता पर शीत गृह में 28 से 30 दिन तक अच्छी दशा में भण्डारण किया जा सकता है गुदे के चीनी . % 40 के घोल में बंद करके जीरो डिग्री से ग्रे . से -17.8 डिग्री से निचे ग्रे .. तापक्रम पर 270 से 360 दिनों तक अच्छी दशा में रखा जा सकता है

Category: