अधिक उपज देने वाली मूंग की किस्म तैयार

villagedevelopment's picture
अधिक उपज देने वाली मूंग की किस्म तैयार

देश में दलहन की पैदावार न बढ़ने से दालों के आयात पर हमारी निर्भरता लगातार बढ़ रही है। ऐसे में दलहनों की पैदावार बढ़ाने लिए अधिक उपज वाली किस्में विकसित करना जरूरी है। इसे देखते हुए बनारस हिंदू विश्वविद्यालय के जेनेटिक और प्लांट ब्रीडिंग विभाग ने मूंग की अधिक उपज वाली मालवीय जनकल्याणी (एचयूएम 16) नई किस्म विकसित की है। इस किस्म की खासियत है कि यह महज दो माह में पककर तैयार हो जाती है। किसान इसकी बुवाई गेहूं की कटाई के बाद यानी अप्रैल माह में भी कर सकते हैं। जिससे बरसात से पहले इसकी कटाई की जा सके। इस तरह इस किस्म की खेती किसानों के लिए काफी फायदेमंद है। इसके अलावा इस किस्म में अन्य किस्मों के Read : अधिक उपज देने वाली मूंग की किस्म तैयार about अधिक उपज देने वाली मूंग की किस्म तैयार

आलू की फसल को झुलसा रोग व कीट से बचाने के उपाय

villagedevelopment's picture

उद्यान एवं खाद्य प्रसंस्करण विभाग ||प्रदेश में आलू के अच्छे उत्पादन हेतु सम-सामयिक महत्व के कीट/व्याधियों का उचित समय पर नियंत्रण नितान्त आवश्यक है। आलू की फसल पिछेती झुलसा रोग के प्रति अत्यन्त संवेदनशील होती है। प्रतिकूल मौसम विशेषकर बदलीयुक्त बूंदा-बांदी एवं नाम वातावरण में झुलसा रोग का प्रकोप बहुत तेजी से फैलता है तथा फसल को भारी क्षति पहुँचती है। ऐसी परिस्थितियों में उद्यान एवं खाद्य प्रसंस्करण विभाग, उ0प्र0 द्वारा इस प्रेस विज्ञप्ति के माध्यम से आलू उत्पादकों को सलाह दी जाती है कि आलू की अच्छी पैदावार सुनिश्चित करने हेतु रक्षात्मक दृष्टिकोण अपनाया जाना चाहिये। यह जानकारी उद्यान निदेशक Read : आलू की फसल को झुलसा रोग व कीट से बचाने के उपाय about आलू की फसल को झुलसा रोग व कीट से बचाने के उपाय

मूंग की दो ऎसी प्रजातियां जो 55 दिन में ही तैयार होगी

villagedevelopment's picture
मूंग की दो ऎसी प्रजातियां विकसित की है जो 55 दिन में ही तैयार होगी

कानपुर। भारतीय दलहन अनुसंधान संस्थान (आईआईपीआर) के वैज्ञानिकों ने मूंग की दो ऎसी प्रजातियां विकसित की है जो 55 दिन में ही तैयार हो जाएगी। अभी तक मूंग की फसल पकने में कम से कम 70 दिन का समय लगता था। जिससे 40 फीसद फसल बारिश की वजह से खराब हो जाता था।

  Read : मूंग की दो ऎसी प्रजातियां जो 55 दिन में ही तैयार होगी about मूंग की दो ऎसी प्रजातियां जो 55 दिन में ही तैयार होगी

केले की खेती

villagedevelopment's picture
केले की खेती

अगर आप केले (Banana) की खेती करने का सोच रहे है तो इस खेती के लिए वैज्ञानिक तकनीको को अपनाएं। केले की खेती से किसानो को काफी मुनाफा हो सकता है क्योंकी केला पका हो या फिर कच्चा बाज़ार में इन दोनों के अच्छे दाम मिल जाते है । केले के अच्छे उपज के लिए कुछ बातों का खास ख्याल रखना होता है जैसे की भूमि और मिट्टी का चयन , पौधे की सिंचाई, आदि । तो आइये हम जानते है  कैसे करे केले की खेती ।

केले की खेती की जानकारी Read : केले की खेती about केले की खेती

मिट्टी की खाद में नाइट्रोजन की भूमिका

Anand's picture
मिट्टी की खाद में नाइट्रोजन की भूमिका

नाइट्रोजन (Nitrogen), भूयाति या नत्रजन एक रासायनिक तत्व है जिसका प्रतीक N है। इसका परमाणु क्रमांक 7 है। सामान्य ताप और दाब पर यह गैसहै तथा पृथ्वी के वायुमण्डल का लगभग 78% नाइट्रोजन ही है। यह सर्वाधिक मात्रा में तत्व के रूप में उपलब्ब्ध पदार्थ भी है। यह एक रंगहीन, गंधहीन, स्वादहीन और प्रायः अक्रिय गैस है। इसकी खोज 1772 में स्कॉटलैण्ड के वैज्ञनिक डेनियल रदरफोर्ड ने की थी। Read : मिट्टी की खाद में नाइट्रोजन की भूमिका about मिट्टी की खाद में नाइट्रोजन की भूमिका

Pages

Subscribe to VillageDevelopment RSS